Secret of Success

सफलता का  रहस्य

“सफलता का  रहस्य क्या है ?” बहुत साल  पहले यह सवाल एक जवान आदमी ने सुकरात (Socrates ) से पूछा।

सुक़रात (Socrates) ने उस  जवान आदमी को  अगली सुबह नदी के निकट मिलने को कहा। अगली सुबह वे नदी के पास मिले। सुक़रात  ने उस युवा आदमी को उनके साथ  नदी के अन्दर चलने को कहा। जब पानी उनकी गरदन तक पहुँच गया तो अचानक  सुकरात  ने उस युवा आदमी को पकड़ कर उसके  सर को पानी में डुबो दिया। उस युवा ने अपना सर पानी से बहार निकालने की बहुत कोशिश की मगर सुक़रात ने उसे पकड़ कर रखा और उसे पानी से सर नहीं निकालने  दिया। जब वो युवा बेहाल हो गया तो सुक़रात ने उसके सिर को पानी से बाहर खींच लिया और ऐसा करते ही उस युवा ने हाँफते हुए एक लम्बी साँस ली। सुक़रात ने  पूछा ” जब तुम्हारा सर पानी के अन्दर था तो तुम सबसे ज्यादा क्या करना चाहते थे ?

लड़के ने कहा: ” साँस लेना ।” सुकरात ने कहा: “यही  सफलता का  रहस्य है। जब आप सफलता को उतना ही आवश्यक समझने लगेंगे जितना ज़रूरी आप साँस लेना समझ रहे थे तो सफलता आप को मिल जायेगी, और कोई अन्य  रहस्य नहीं है।

कहानी का नैतिक मूल:

इच्छा की आग  सफल होने की प्रेरणा  को जगाती है। इच्छा की आग सभी उपलब्धि की शुरुआती बिंदु है।  जिस प्रकार  छोटी सी आग  ज्यादा गर्मी नहीं दे सकती है उसी प्रकार से  एक कमजोर इच्छा महान परिणामों को संभावित  नहीं कर सकती है।

“जिस भी चीज़ की मनुष्य कल्पना कर सकता है और उसमें विश्वास रखता है, वह वो प्राप्त कर सकता है।” – Napoleon Hill 

, ,

One Response to Secret of Success

  1. himanshu January 6, 2015 at 3:38 pm #

    this is good ,, but how to keep it up our desire burn by time to time so that our desire could not fade up ?

Leave a Reply

Password Reset
Please enter your e-mail address. You will receive a new password via e-mail.